where it all began

Hearth, in its earlier days, came out in form of a newsletter. while the magazine was a tedious, more strenuous affair and was periodical, Hearth never depended itself on time and was published whenever an incessant need to do so was felt- be it some political or literary incident or the opening of a new joint in the city -
as a famous philosopher once said, we are not prisoned by time but by clocks, we must accept our ruins and our downfalls. true poetry and literature will come out of those.
The cover of the blog is called "LOVERS" and has been clicked by eminent poet and photographer Anurag Vats

14/01/2017

how to lose friends and alienate people: an e-pamphlet about poets, philosophers and the left

an e-pamphlet : about activities that are left and the need to understand the left

dear diary,
so basically, in a recent discussion (where i had to put up with a few "leftist"  people ploughing the carcass of our democracy with fervent chants of mao mao) they decided that except the left and in that too, a specific group - the rest of them have been conformists to the status quo which is namely congress, while Bjp has always been the violent right. (to which i totally agree) as a poet, i despise labels and if only it was compulsory to assert to any identity, which no poet in the true sense will like - i'd be a poet, just a poet, with very specific old world set of ideals, and a very lower middle class consciousness. 
                                                                                           let us not dwell into history. that is useless. let us forget the stalins(for murder is not always murder and the frame of references are fixed stringently and they never shift- mind you , this defies derrida and all common sense)lets us forget that, congress has been the status quo and has ruled the country because of the left (though the specific group has always maintained "ample distance" and what that means in politics is very difficult to understand. ) let us forget that a 40 something seats holding left did not decide in favour of jyoti basu becoming the prime minister - no matter for how long. 
these points can be easily refuted but then this has been the problem of indian politics- the failure of the construction of a third strong center-  and left being a left that is almost non-existent. there are certain points which were discussed and though i was not seriously involved in the discussion since you discuss with people who you think are respectful towards your understanding of the subject and most importantly you and then too, one requires an open mind- not bookish philosophies and certainly not politics. all poets yearn for objectivity and all philosophers disagree that it is attainable. the yearning makes a poet, the disagreement- a philosopher.
so we are clear that Bjp and the other right winged group are the enemies- for their outrageous and outward support towards capitalism and for being non-secular( though others are secular might raise some eyebrows - mamta for one comes to mind) . the recession in the west brought about two books from the left side of the intellectualism at least - one by zizek and one by picketty, i am yet to read one by an indian marxist, if not a book, something vehemently criticizing the policy in economic and theoretical terms ( i would love to read, the readers please suggest- all i could get was an ashish nandy interview and he is not a marxist though it always has been quite the trend.)

now the status quo- congress! yes true. the alternative sadly is a pseudo liberal more intrusive century old family ruled group of smug intellectual men- very similar to what a tory parliament will be to the monarchy and despite that congress has nehru- if a monarch- still more socialist and a doer than the whole of left. one of those leaders whose legacy the right wing has to strongly deny and corrupt to legitimize itself and through most parts of the post independence history, "left" has stood with the congress. now my common sense defies me dear diary but what does one calls the one who aligns itself with the status quo.  if any party which has not openly conformed or formed its coalitions with congress except for a forty nine day mishap, it is AAP- and they have filled a space which ideally left should have occupied much to the relief of common people and soul of mao. oops for mao, it doesnt exist- for akhmatova's misery in a Stalinist torture camp - the idea is absurd.  certain factions have  always maintained distance but then the strong opposition has always been non-existent. to think that a left party can play the board while conforming to the vote bank politics. (the hostels in patna college are divided according to religion and it is always obvious which hostel is going to vote for whom.)
that brings us to mandal commission. while, the reservation system was a necessity in states like bihar, over the years, it has become necessary to reassess the whole situation. this is a touchy topic and less intelligent leftists have always labelled me as a Brahmmanical  patriarch upon criticizing the system. but then not all the left leaders are like that. just a day before the discussion i talk about here, i had another discussion with another active member of the same party who would go to countless measures to search for a missing child even, and he admitted the formation of a creamy layer in all castes due to the obvious flaws that have amalgamated over time- that a discussion of parameters was necessary and that left would have always gained more if the system would be more economy based and would remain more fluid over time.  in the discussion mentioned here, i refrain from saying the word maoist because i dont understand the full implication of the term here in India or the term marxist for that matter- this neo-Brahmanism is what keeps the people away from left- may be except for some tiny factions -for the lack of better choice probably. the problem with vote bank politics is that it is always community dependent and there have always been bigger politicians in every faction to sway the crowd. there is an obvious "disconnect", except for the facebook dimension which always strives for the ideal and the heroic and is over with it as soon as the screen is turned off.
AAP has been a part of a two-day revolution. most of its leaders have come from there and are generally elitists. the so-called revolution was futile and the discourse of pseudo-nationalism even aligned its major figures with the  right wing. the left has its share of revolutions and far better ones- but the sum total has always been zero, the responsibility quotient negligible and the need of a third center and not merely the amalgamation of ideologies countering the center in the form of an alternate which yearns for the status quo. 
a poets need to conform to an objective ideal i understand- it provides him with a string to hold on to, in the emptiness. that is his flaw. a philosopher's need to conform to his readings is also understandable for the world of books is ideal where the cause and response work as they should, without the trouble of application and assessment of that application. he has only one task and that is to conform to the ways of his ancestors and to form an opinion based on them, mind you- this will kill a poet. i also understand a young left leader's need and compulsion to hide behind the ideals he has so long revered without asking questions because it is there where he feels most secure, how incompetent his life may have been- in terms of the lingua franca of the market. 
what i don't understand is what left strives for? for being in power- which they refused when they were in a position to accept and do some actual good- distance itself from america perhaps, who knows, or for the formation of a classless society- something which has never been it's prime motive in the country, to end feudalism- by depending upon a system which in it's very roots very much appropriates caste-ism?  the failure of left has been it's failure of propagating, in focaultian terms, this knowledge to the masses correctly, it's success is the ability to fill the void that only it can fill only if it becomes more application based, ordinary and humane in contrast to what it generally comes to people today- elite, smug, overtly theoretical and at times foolishly close-minded prudes. 
dear diary, india doesn't need red flags and torture camps, it needs destruction of salma judums, defiance against capitalist propagandas, more toilets and a health system like castro's cuba.

the believe in good old love continues.

love anchit

(anchit is a poet)


10/01/2017

अगर अंदर संवेदना होगी तो नींद नहीं आएगी. हैशटैग बंगलौर ,हैशटैग दुनिया

दुनिया का सबसे खतरनाक हथियार क्या है ? जिसके एक बार चल जाने के बाद पूरा का पूरा इलाका में सन्न रह जाये ? आप कहेंगे कि एटम बम या फिर हाइड्रोजन बम. तो साहब आज तक आप भ्रम में हैं. इन सब से भी एक खतरनाक हथियार है. सौभाग्यवश उस हथियार का खजाना है भारत के पास. सभ्यता और संस्कृति का हथियार. कहीं एक बार एटम बम चल जाए तो आदमी मर जाएगा है , आने वाली पीढ़ी अपंग पैदा होगी. लेकिन उनका विचार नष्ट नहीं हो जायेगा , सोच रहेगा , प्रतिरोध रहेगा. लेकिन मियां एक बार सभ्यता और संस्कृति का हथियार चल गया तो सारी जिरह बंद , सारे तर्क कूड़ेदान में . आप कहेंगे कि उस लड़की के साथ गलत हो गया. जवाब आएगा कि जरुर उसने भारतीय संस्कृति का पालन न किया होगा . 
साल के पहले दिन ही बेंगलुरु के सड़कों पर नए साल का जश्न मानती लड़कियों के साथ दुर्व्यवहार बड़े स्तर पर होता है. शहर के जगह-जगह पर लड़कियों के साथ अभद्र व्यवहार की जाने की खबर और सीसीटीवी विडियो आते हैं. शर्म की जाने वाली इस घटना पर कर्नाटक राज्य के गृह मंत्री कहते हैं – ये घटना लड़कियों के वेस्टर्न कपडे और वेस्टर्न कल्चर के कारण हुए. सरकार पूरा का पूरा मुद्दा कल्चर / संस्कृति को कल्चर के नाम पर लड़कियों को ही दोषी बता रही है. अजीब लगता है पढ़-सुन कर. मतलब किसी भी निंदनीय घटना को कल्चर के नाम पर इग्नोर किया जा सकता है. यह घटना न देश की पहली घटना है है न यह आखिरी होगी. लेकिन आखिर कब तक कल्चर के नाम पर ऐसी घटना होती रहेगी. संस्कृति के नाम पर ऐसी घटनाएँ लड़कियों के साथ ही क्यों होता है ? लड़कों पर सभ्यता – संस्कृति से बहक जाने को लेकर ऐसी घटनाएँ क्यों नहीं होती. कुछ साल पहले शाहरुख़ खान की एक फिल्म आई थी ‘स्वदेश’. शाहरुख़ खान अभिनीत पात्र मोहन गाँव की सभा में अमेरिका भारत के सांस्कृतिक टकराहट के संदर्भ में चल रहे बहस में कहता है कि ‘जब भी हम मुकाबले में दबने लगते हैं एक ही चीज़ का आधार लेते हैं संस्कार और परम्परा . अमेरिका ने अपने बूते पर तरक्की की है. उनके अपने संस्कार हैं, अपनी परम्परा है. अब ये कहना कि उनके सोच, विचार, उनका रहना सहन, उनकी मान्यताएं ख़राब है हमारी महान, यह गलत है.’ 
हमारा देश भारत कर्ज न चुका पाने के कारण आत्महत्या कर रहे किसानों के बावजूद हर वर्ष अरबों रुपये धन हथियार खरीदने में लगा देता है . ये हथियार ख़रीदे जाते हैं फ्रांस , अमेरिका , ब्रिटेन , रूस से पश्चिमी सभ्यता वाला देश. जब भी अपनी सभ्यता को श्रेष्ठ और पश्चिम सभ्यता को पतित बताने वालों को सुनता हूँ तो अनायास से सवाल जेहन में आता है की जब पश्चिम का हथियार बुरा नहीं है तो फिर पश्चिम का सभ्यता कैसे बुरा हो सकता है ? जब आदिवासियों पर अंधाधुंध चल रहे पश्चिम निर्मित ऑटोमैटिक रायफल बुरा नहीं है फिर पश्चिम निर्मित जीन्स सड़क पर पहन कर चल रही लड़की कैसे बुरी हो सकती है ?
वही कुछ लोग कहते हैं कि ऐसी घटनायों से बचने के लिए लड़कियों को चाकू, स्प्रे जैसी चीज़े ले कर चलना चाहिए. उन्हें मार्शल आर्ट सीखनी चाहिए. ऐसा सुझाव बचकाना भरा है. इससे आप सामने वाले व्यक्ति से भले ही लड़ सकते हैं लेकिन उस विचार से नहीं जो उस व्यक्ति के जैसा हजारों तैयार कर रहा है. आजकल फेमिनिस्म की बात हर कोई कर रहा है , खुद को फेमिनिस्ट साबित करने में हर कोई लगा है . चाहे वो इंटेलेक्चुअल टाइप लोग हैं, एक्टर हैं , स्पोर्ट पर्सन है या चाहे बाज़ार ही . जिस बाज़ार ने लड़कियों को एक वस्तु के तौर पर स्थापित किया, आज वही बाज़ार फेमिनिस्म का सबसे बड़ा रहनुमा बना हुआ है. क्यों की आज फेमिनिस्म भी बिक रहा है. साल भर में कई फ़िल्में फेमिनिस्म पर आ ही जाती है. जो फिल्म वाले महिलायों को बराबरी का मेहनताना नहीं देते हैं वो हल्ला कर के फेमिनिस्म की बात करते हैं इसलिए नहीं की उन्हें वाकई में महिलायों की समस्या से कोई सहानुभूति है बल्कि सारा खेल धंधे का है. देश की टॉप स्पोर्ट पर्सन हैं साइना नेहवाल . बाज़ार हमें यह बताता है की साइना नेहवाल के मेडल जितने से देश की लड़कियों को प्रेरणा मिलेगी और फिर यही बाज़ार साइना नेहवाल से चेहरे को सुन्दर और गोरे बनाने की क्रीम बिकवाता है. साइना नेहवाल को प्रेरणा मान लडकियाँ एक एकदम आगे तो जाएँगी लेकिन फेनिमिस्म में खोह में छिपे नस्लवादी सोच उन्हें भीतर से कमजोर कर देगी.
बंगलौर की घटना हो या कही और की घटना सारा मामला पुरुषवादी सोच और बाज़ार की उपज है. हमने सभ्यता और परंपरा के नाम पर वर्षों सती प्रथा में जिन्दा विधवाओं को जलाया है. जिसपे हमें शर्म होना चाहिए लेकिन आज भी कल्चर के नाम पर ऐसा घटनाएँ का होना आदिम और पशु बनाता है.


सुधाकर




04/01/2017

एक खत पोस्ट ऑफिस के नाम



मेरे प्यारे पोस्ट-ऑफिस
ख़त लिखने की बात जब भी होती है तुम्हें ना जोड़ना कैसे हो सकता है। लोग अब तुम्हारे ठौर का रास्ता भूल गए हैं। तो सोचा तुम्हारा ही हाल-चाल पूछ लूँ। जैसा कि तुम्हें देखता हूँ मैं। जंग लग रहे शरीर पर से पेंट उतर रही है।
क्या ये सब तुम्हें पता था कि ऐसा भी हो सकता था तुम्हारे साथ। तुम तो हर-दिल अज़ीज़ हुआ करते थे।
अनेक भावों से भरे पत्रों को रखते थे अपने आरामगाह में मसरूफ़। डाकिया जो कभी सबका खासमखास हुआ करता था, स्याही में छिपे लब्जों को किश्त-दर-किश्त अपने सही पते पर पहुँचा दिया करता था।यहाँ तक कि खाली कागज़ भी एक सफ़ल और खास पैगाम हुआ करती थी।  तुम तो रिश्तों के बनने-संवरने का मुख्य-केंद्र हुआ करते थे। और फ़िर तुम्हारा इस बियाबां में होना! क्या बदलाव इतना ज़रूरी है? शायद हाँ पर मुझे तो किसी भी चीज़ का बिसरना कचोटता ही है। खैर! तुम होगे शायद कही, किसी सुदूर गाँव में निभा रहे होगे अपना रिश्ता, ऐसा जरूर होगा।
तुम्हारे होने के सफरनामे का सुबूत दिल के शामियाने में हमेशा रहेगा। तुम्हारी यादों के अनेक बिम्ब हैं 'लाल-बक्से'! जैसे उस छोटे बच्चे का अपने बाबा के कंधे पर चढ़कर तुम्हारा ताला खोलना हर सुबह। नज़रों का तुम्हें बड़े कुतूहल से देखना, तुम्हारे भीतर झांकने की कोशिश करना। तुम्हें नए रंग से पुतते देखना। तुम बहुत सारे भूला दिए गए रिश्तों की एक कड़ी हो। अब भी देखता हूँ कि तुम हो कहीं जहाँ शायद 'बदलाव' अभी नहीं पहुँचा तब तक तुम सुकून से अपने मन को जी सकते हो। उम्मीद है ये ख़त तुम तक पहुँचेगा और इस बार तुम्हें इसे किसी और के सुपुर्द नहीं करना बल्कि अपने पास रखना है। ये ख़त तुम्हारे लिए है।
एक वक्त था जब असद ताउम्र ख़त लिखते रहे। ख़त लिखना तो एक कारीगरी थी। रिल्के, ज़िब्रान, ट्वेन, चेख़व, काफ्का, शेली, फ्रेंक्लिन, ज़ोयस, हेमिंग्वे... जाने कितनों ने ही अपना दिल उतारा है ख़त पे।
जब लिहाफ़ ओढ़े कोई सर्द रात किसी ख़त से बातें नहीं करती तो क्या होता है। ख़त लिखना एक समृद्ध परंपरा रही है। ख़त दीवारों के पार जाकर आजादी का पैगाम पहुंचाता रहा है। ख़त माने ..एक ऐसी दुनिया जहाँ दूरियाँ एक-दूसरे से मिल सकती थीं, बातें कर सकती थीं। ख़त तो कई तरानों का विषय रहा है, कई फिल्मों का किरदार रहा है, कई बार इसने धागों को जोड़ा है।
फिर, एक दिन ऐसा होता है कि हम भूल जाते हैं ख़त लिखना और एक रिश्ता ख़त्म हो जाता है। पर मेरे लिए तुम सब हो वहीँ अतीत के बगीचे में ही सही! बदला तो बस इतना है कि डाकिया अब उस गली नहीं गुज़र रहा होता है जहाँ मौजूद सारी खिड़कियाँ कभी उसका इंतजार कर रही होती थीं। संवाद की एक लड़ी गुम हो गयी है। ख़त अब सिरहाने नहीं पाए जाते, नाही किसी बक्से में। अब कोई ख़त पढ़ते पूरा दिन और सारी रात नहीं गुजारता। अतीत के अहसासों का एक और पुल गिर चुका है। बस कुछ मलबे का सामान बाकी है कहीं जहाँ उसे समेटकर रखा गया है बड़े प्यार से अभी भी।
पोस्ट-बॉक्स, तुम्हारी सोहबत, तुम्हारी दोस्ती, अफ़साना...सब याद रहेगा।
फ़िर से मिलेंगे तुमसे । ख्वाबों में ही सही। खाबों में मिलना तो तभी होता है जब किसी की यादों की छाप मन पे गहरी हो। ख़याल रखना।
तुम्हारा दोस्त कोई।


उत्कर्ष